बैंक यूनियनों ने मंगलवार को किया हड़ताल का ऐलान, बैंकिंग सेवाएं हो सकती हैं प्रभावित

नई दिल्लीः सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में मंगलवार को हड़ताल की वजह से बैंकिंग सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं. सरकार के एकीकरण के कदम और कुछ अन्य मांगों के समर्थन में यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) के तत्वावधान में सभी बैंक यूनियनों ने 22 अगस्त (मंगलवार) को हड़ताल का आह्वान किया है. हालांकि, निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, एक्सिस और कोटक महिंद्रा बैंक में कामकाज सामान्य रहने की संभावना है. इन बैंकों में चेक समाशोधन में देरी हो सकती है.

यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस :यूएफबीयू: नौ यूनियनों का प्रमुख निकाय है. इसके तहत आल इंडिया बैंक आफिसर्स कनफेडरेशन :एआईबीओसी:, आल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) और नेशनल आर्गेनाइजेशन आफ बैंक वर्कर्स (एनओबीडब्ल्यू) आती हैं. श एआईबीओसी के महासचिव डी टी फ्रैंको ने कहा, ‘‘मुख्य श्रम आयुक्त के साथ सुलह सफाई बैठक विफल रही है. अब यूनियनों के पास हड़ताल पर जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. सरकार और बैंकों के प्रबंधन की ओर से कोई आश्वासन नहीं मिला है.’’ उन्होंने कहा कि यूनियनों की मांगों पर समाधान के सभी प्रयास विफल हो गए हैं. ऐसे में अब यूएफबीयू ने 22 अगस्त को हड़ताल पर जाने का फैसला किया है.

यह भी पढ़ें: नई 50 रुपए नोट की तस्वीर लीक ? जानो क्या है?

एआईबीईए के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा, ‘‘हमारी मांगों में गैर निष्पादित आस्तियों को बट्टा खाते में नहीं डालना, जानबूझकर कर न चुकाने को आपराधिक अपराध घोषित करना और एनपीए की वसूली के लिए संसदीय समिति की सिफारिशों को लागू करना शामिल है. ’’

उन्होंने यह भी कहा कि बैंकों को कारपोरेट एनपीए का बोझ शुल्क बढ़ाकर ग्राहकों पर नहीं डालना चाहिए. वेंकटचलम ने कहा कि सरकार को बैंक बोर्ड ब्यूरो को समाप्त करना चाहिए. यूएफबीयू का दावा है कि उसके सदस्यों की संख्या 10 लाख है. बैंकिंग क्षेत्र के कुल कारोबार का 75 प्रतिशत 21 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के हिस्से आता है.

 

1 Comment

  1. I believe this is one of the such a lot vital info for me. And i am glad studying your article. But want to statement on some normal things, The web site style is great, the articles is in point of fact great : D. Excellent task, cheers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *